Whtapp sms

तोहमतें तो रोज़ लगती थी नई नई हम पर
मगर जो सब से हँसी इलज़ाम था वो तेरा नाम था

meri style mera attitude teri aaukaat se baher hai
jis din to ye jaan jayega us din to jaan se jayega


हालातों ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागो की तरह
वरना हमारे वादे भी कभी जंजीर हुआ करते थे

bhai bolne ka haq humne sirf dosto ki diya hai
warna dushman bhi hamein aaj bhi baap ke naam se jante hai


ऐसा कोई सहर नहीं जहाँ अपनी चली नही
ऐसी कोई गली नहीं जहाँ अपनी चली नहीं
peene ki capicity jeene ki strangth

account ka balance aur naam ka khauf
kabhi bhi kam nahi hona chahiye

attitude तो अपनी भी खतरनाक है जिसे
भुला दिया सो भुला दिया
फिर एक शब्द ही याद रहता है …who are you

to beshak apni mahfil mein mujhe badnaam karti hai
lekin tujhe andaza bhi nahi ki wo log bhi mere pair chute hai
jinhe to slaam karti hai


tamaam zakhmo ke saath is liye ji raha hun
ki ek din to wo milega jo marhum lagana janta ho

जितना रूठना है रूठ ले पगली जिस दिन हम रूठ गये ना
उस दिन से तू रूठना ही छोड़ देगी

अपनी औकात देख कर लाइन मारा कर पगली
जितना तेरा अकेले का वजन है
उससे कही जायदा तो मेरे कपडे का वजन hai..


haq se de to teri nafrat bhi qabol hai
khairat mein di huyi teri mohabbat bhi qabool nahi

ऐसा होगा या वैसा होगा ना जाने कैसा होगा
ज्यादा सोच मत पगली
तू ये सोच की तेरा ये अन्जल कैसे होगा


pathar se patthar takraoge to aag lage gi
humse jo takrayega to samjho uski waat lage gi

ऐसी भी बे रोखी भी देखि है हमने आज के लोगो में
तुम से आप आप से जान और जान से अनजान बन जाते है


mahesoos tab huwa jan sara saher
mujhse jalne laga hai
tab samjh mein aa gaya ki apna naam bhi chalne laga hai

महेफ़िले इश्क सजाओ तो कोई बात बने
दौलतें इश्क भी लुटाओ तो कोई बात बने
जाम सागर से नहीं पीना मुझे
आँखों से पिलाओ तो कोई बात बने

naam to likh dun uska apni har shayari ke saath
magar phir khayal aata hai masoom si hai jaan meri
kabhi badnaam na ho jaye
देख लूँगा तुझे ऐ ज़िन्दगी फिर कभी
आज तेरी बारिश है तू जश्न बना!

You may also like...