Motivational Story

आपने Michael Jordan का नाम तो सुना ही होगा, अगर नहीं तो आज जान लीजिये कि जब कभी भी basket ball का जिक्र होता है तो Michael Jordan का नाम सर्वप्रथम लिया जाता है।

वैसे तो Michael की life के बारे में बहुत कुछ शेयर करने लायक है जिससे हम बहुत कुछ सीख सकते है लेकिन यहां मैं उनके बचपन की एक ऐसी story शेयर करने जा रहा हूँ जो आपको inspire करेगी कि इस दुनिया में कुछ भी नामुमकिन नहीं है बस जरूरत है तो एक बुलंद हौसले की।

Michael जब छोटे थे तब उनके पिता ने उन्हें एक पुरानी-गंदी टी-शर्ट  दिखायी और पूछा कि बताओ इस टी-शर्ट  की कीमत कितनी हो सकती है।

Michael ने सोच-विचार कर जवाब दिया कि यहीं कोई $1 के आस-पास।

उनके पिता ने Michael को वो टी-शर्ट  दी और कहा की तुमको ये टी-शर्ट  $2 में बेचनी है, तुम ये कैसे करते हो ये मुझे नहीं पता।

Michael ने हाँ कर दिया।

Michael ने उस टी-शर्ट  को अच्छे से साफ किया, उनके घर पर स्त्री नहीं थी तो उन्होंने उस टी-शर्ट  को स्त्री करने के लिये ढेर सारे कपड़ों के नीचे दबा दिया और जब थोड़ी देर बाद निकाला तो वो एकदम साफ और स्त्री हो चुका था।

Michael उस टी-शर्ट  को लेकर रेलवे स्टेशन पर चले गये और वहा 5 घन्टों की कड़ी मेहनत के बाद Michael ने उस कपड़े को $2 में बेंच दिया।

दूसरे दिन Michael के पिता ने Michael को एक दूसरी टी-शर्ट  दी और कहा कि ये टी-शर्ट  तुम्हें $20 में बेंचनी है।

Michael ने टी-शर्ट तो ले ली लेकिन उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि वो उस टी-शर्ट को कैसे बेंचेंगे, फिर उनके दिमाग में एक idea आय और उन्होंने टी-शर्ट को एकदम clean करके उसपर एक mickymouse का sticker लगा दिया और एक स्कूल के सामने जाकर वो टी-शर्ट लेकर खड़े हो गये जहां पर केवल अमीर घर के बच्चे ही पढ़ने के लिये आते थे।

बच्चों की जब छुट्टी हुई तो उनमें से एक बच्चा अपने पापा से जिद करने लगा वो टी-शर्ट खरीदने के लिये और उसके पापा ने $20 देकर वो $1 की टी-शर्ट खरीद ली।

तीसरे दिन Michael के पिता ने Michael को एक और टी-शर्ट दी और कहा कि इसे तुमको $200 में बेचनी है लेकिन इस बार Michael ने मना कर दिया क्योँकि $1 की टी-शर्ट $200 बेंचना नामुमकिन जैसा था।

तो Michael के पिता ने कहा कि बिके-न-बिके ये बाद कि बात है, लेकिन तुम एक बार प्रयास न करो ये बुरी बात है, प्रयास करने में क्या जाता है।

Michael तैयार हो गये लेकिन एक बार फिर उन्हें पता नहीं था कि वो इस $1 के टी-शर्ट को $200 में कैसे बेंचेगे। 4-5 दिन सोच-विचार करने के बाद वो उस टी-शर्ट को लेकर शहर चले गये।

उस शहर में कोई एक famous actress आयी हुई थी, Michael को जब पता लगा तो वो security को चकमा देकर और भीड़ को चीरकर उस actress के पास पहुँच गये autograph लेने के लिये।

क्यूँकि Michael अभी छोटे थे इसलिये उस actress ने मना न करके Michael के उस टी-शर्ट पर autograph दे दिया।

Autograph लेकर वो भीड़ से बाहर आ गये और उस टी-शर्ट को लेकर एक ऐसी जगह जाकर खड़े हो गये जहाँ से बहुत सारे लोग आते जाते रहते थे।

लोगों को जब उस autograph वाली टी-शर्ट के बारे पता चला तो वहा भीड़ इकट्ठा हो गयी और सब लोग उस टी-शर्ट को खरीदना चाहते थे।

इसलिये अब उस टी-शर्ट पर बोली लगने लगी और अंत में एक इंसान ने उस $1 कि टी-शर्ट को $2000 में खरीद ली।

Michael बहुत ख़ुश थे और जब ये पूरी घटना उन्होंने अपने पिता को बतायी तो वो भावुक होकर रोने लगे और Michael को गले से लगाकर बोले कि बेटा एक दिन तु अपनी जिंदगी में बहुत बड़ा मुकाम हासिल करेगा, तेरे लिये इस दुनिया में कुछ भी करना मुश्किल नहीं है, तु कुछ भी कर सकता है और सायद ये Michael के पिता का आशीर्वाद ही था जो उन्हें आज बास्केट बॉल का भगवान बना दिया।

इस कहानी से वैसे तो बहुत कुछ सीखने लायक है लेकिन जो एक सबसे highlighted बात है वो ये है कि “जब तक आप खुद से हार न मान लो, तब तक आपको कोई भी माई का लाल हरा नहीं सकता”।

You may also like...