Sad Shayri

“तेरी मोहब्बत को कभी खेल नहीं समझा, वरना खेल तो इतने खेले है मैंने कि कभी भी हारा नहीं”

Today's Special Discounted Deals

You may also like...