Sad Shayri

taras aata hai mujhe masoon si palkho par
jab bheeg kar kahti hai ke ab aur roya nahi jata.


——————

meri khusiyan tumhe bohut azeez thi na
phir q nahi tum inhe apne saath le gaye.

——————–

नहीं फुरसत यकीन जनों हमें कुव्ह और करने की
तेरी बातें तेरी यादें बहुत मफ्स्रूफ़ रखती है


meri jaat mein bus itna si hissa hai uska
use khud se nilako to mere pass kuch bhi nahi us ke siwa.

—————

तेरे साथ रहने पर मेरा बस नहीं तुझे भोलना भी महाल है
में कहाँ गुजरों ये ज़िन्दगी मेरे सामने सवाल है

————–

aakhir zindagi ne poch hi liya kaha hai wo shaks
jo teri zindagi me sab se azaaz shaka tha.

————–

तेरी मुश्कान तारे लहेज़ा तेरे मासूम से अलफ़ाज़
किया कहू बस बहुत याद आते हो तुम.

——————-

Today's Special Discounted Deals

You may also like...