Sad Shayri

जिंदगी से सिकवा नहीं की उसने गम का आदी बना दिया गिला तो उनसे है जिन्होंने रौशनी की उम्मीद दिखा के दीया ही बुझा दिया
Jindagi se sikwa nhi ki usne gam ka aadi bna diya gila to unse hai jinhone Roshni ki umeed dikha ke diya hi bujha diya

Today's Special Discounted Deals

You may also like...