Sad Shayri

Ye Meri Mahobbat Aur Uski Nafrat Ka Mamla Hai,
Ai Mere Naseeb Tu Beech Mein Dakhal-Andaji Mat Kar.

ये मेरी महोब्बत और उसकी नफरत का मामला है,
ऐ मेरे नसीब तू बीच में दखल-अंदाज़ी मत कर।

Na Jane Kis Baat Pe Wo Naraj Hain Hamse,
Khwabon Me Bhi Milta Hoon To Baat Nahi Karti.

ना जाने किस बात पे वो नाराज हैं हमसे,
ख्वाबों मे भी मिलता हूँ तो बात नही करती।

Today's Special Discounted Deals

You may also like...