SAD SHAYARI

Ehsaan Kisi Ka Woh Rakhte Nahi Mera Bhi Chuka Diya,
Jitna Khaya Tha Namak Mera Mere Zakhmo Pe Laga Diya.
एहसान किसी का वो रखते नहीं मेरा भी चुका दिया,
जितना खाया था नमक मेरा मेरे जख्मों पे लगा दिया।

Namak Bhar Kar Mere Zakhmon Mein Tum Kya Muskurate Ho,
Mere Zakhmon Ko Dekho Muskurana Iss Ko Kahte Hain.
नमक भर कर मेरे ज़ख्मों में तुम क्या मुस्कुराते हो,
मेरे ज़ख्मों को देखो मुस्कुराना इस को कहते हैं।

Meri Chahat Ko Meri Halat Ke Taraju Mein Na Taul,
Maine Woh Zakhm Bhi Khaye Jo Meri Kismat Mein Nahi The.
मेरी चाहत को मेरी हालत की तराजू में ना तोल,
मैंने वो ज़ख्म भी खाये जो मेरी किस्मत में नहीं थे।

Kured-Kured Kar Bade Jatan Se Humne Rakhe Hain Hare,
Kaun Chahta Hai Ke Unka Diya Koi Zakhm Bhare.
कुरेद-कुरेद कर बड़े जतन से हमने रखे हैं हरे,
कौन चाहता है कि उनका दिया कोई ज़ख्म भरे।

Namak Tum Haath Mein Lekar Sitamgar Sochte Kya Ho,
Hajaro Zakhm Hain Dil Par Jahan Chaaho Chhidak Daalo.
नमक तुम हाथ में लेकर सितमगर सोचते क्या हो,
हजारो ज़ख्म हैं दिल पर जहाँ चाहो छिड़क डालो।

 

Today's Special Discounted Deals

You may also like...