Sad Shayari

Lamhon Ki Daulat Se Dono Hi Mahroom Rahe,
Mujhe Churana Na Aaya Tumhein Kamana Na Aaya.
लम्हों की दौलत से दोनों ही महरूम रहे,
मुझे चुराना न आया, तुम्हें कमाना न आया।

Na Jaane Iss Zid Ka Nateeja Kya Hoga,
Samjhata Dil Bhi Nahi Main Bhi Nahi Tum Bhi Nahi.
ना जाने इस ज़िद का नतीजा क्या होगा,
समझता दिल भी नहीं मैं भी नहीं और तुम भी नहीं।

Today's Special Discounted Deals

You may also like...