दिल छू जाने वाली शायरी

आज कल वो हमसे डिजिटल नफरत करते हैं,
हमें ऑनलाइन देखते ही ऑफलाइन हो जाते हैं..

aaj kal vo hamse dijital napharat karte hain,
hamen aunlaaen dekhte hi auphlaaen ho jaate hain.
——————————————————

बेवफा लोग बढ़ रहे हैं धीरे धीरे,
इक शहर अब इनका भी होना चाहिए…

bevphaa log badh rahe hain dhire dhire,
ek shahar ab enkaa bhi honaa chaahia
——————————————————-

आँखें थक गई है आसमान को देखते देखते
पर वो तारा नहीं टूटता ,जिसे देखकर तुम्हें मांग लूँ

aankhen thak gayi hai aasmaan ko dekhte dekhte
par vo taaraa nahin tuttaa ,jise dekhakar tumhen maang lun
——————————————————–

रुठुंगा अगर तुजसे तो इस कदर रुठुंगा की ,,
ये तेरीे आँखे मेरी एक झलक को तरसेंगी !!

ruthungaa agar tujse to es kadar ruthungaa ki ,,
ye terie aankhe meri ek jhalak ko tarsengi !!
——————————————————–

तुझसे अच्छे तो जख्म हैं मेरे ।
उतनी ही तकलीफ देते हैं जितनी बर्दास्त कर सकूँ

tujhse achchhe to jakhm hain mere ।
utni hi takliph dete hain jitni bardaast kar sakun
———————————————————

मेरी हर आह को वाह मिली है यहाँ…..
कौन कहता है दर्द बिकता नहीं है !

meri har aah ko vaah mili hai yahaan…..
kaun kahtaa hai dard biktaa nahin hai !
———————————————————

तुमने समझा ही नहीं और ना समझना चाहा,
हम चाहते ही क्या थे तुमसे “तुम्हारे सिवा

tumne samjhaa hi nahin aur naa samajhnaa chaahaa,
ham chaahte hi kyaa the tumse “tumhaare sivaa
———————————————————

क्या बात है, बड़े चुपचाप से बैठे हो.
कोई बात दिल पे लगी है या दिल कही लगा बैठे हो.

kyaa baat hai, bde chupchaap se baithe ho.
koi baat dil pe lagi hai yaa dil kahi lagaa baithe ho…
———————————————————-

किसी को न पाने से जिंदगी खत्म नहीं होती लेकिन किसी को पाकर खो देने से कुछ बाकी भी नहीं रहता|

kisi ko n paane se jindgi khatm nahin hoti lekin kisi ko paakar kho dene se kuchh baaki bhi nahin rahtaa
———————————————————–

सुकून की तलाश में हम दिल बेचने निकले थे खरीददार दर्द भी दे गया और दिल भी ले गया|

sukun ki talaash men ham dil bechne nikle the khariddaar dard bhi de gayaa aur dil bhi le gayaa|
————————————————————

वो छोड़ के गए हमें,
न जाने उनकी क्या मजबूरी थी,
खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं,
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी.

vo chhod ke gaye hamen,
n jaane unki kyaa majburi thi,
khudaa ne kahaa esmen unkaa koi kasur nahin,
ye kahaani to mainne likhi hi adhuri thi.
————————————————————–

ना वो सपना देखो जो टूट जाये,
ना वो हाथ थामो जो छुट जाये,

naa vo sapnaa dekho jo tut jaaye,
naa vo haath thaamo jo chhut jaaye
————————————————————-

मत आने दो किसी को करीब इतना,
कि उससे दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये|

mat aane do kisi ko karib etnaa,
ki usse dur jaane se ensaan khud se ruth jaaye
—————————————————————

बारिशे हो ही जाती है मेरे शहर में,
कभी बादलो से तो कभी आँखों से.

baarishe ho hi jaati hai mere shahar men,
kabhi baadlo se to kabhi aankhon se.
————————————————————–

वो रो रो कर कहती रही मुझे नफरत है तुमसे,
मगर एक सवाल आज भी परेशान किये हुए है,
की अगर नफरत ही थी तो वो इतना रोई क्यों

vo ro ro kar kahti rahi mujhe napharat hai tumse,
magar ek savaal aaj bhi pareshaan kiye hua hai,
ki agar napharat hi thi to vo etnaa roi kyon
————————————————————-

ये ना पूछ कितनी शिकायतें हैं तुझसे ऐ ज़िन्दगी,
सिर्फ इतना बता की तेरा कोई और सितम बाक़ी तो नहीं।

ye naa puchh kitni shikaayten hain tujhse ai jindgi,
sirph etnaa bataa ki teraa koi aur sitam baaki to nahin
————————————————————–

टूटा हो दिल तो दुःख होता है,
करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है,
दर्द का एहसास तो तब होता है,
जब किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है।

tutaa ho dil to duahkh hotaa hai,
karke mohabbat kisi se ye dil rotaa hai,
dard kaa ehsaas to tab hotaa hai,
jab kisi se mohabbat ho aur uske dil men koi aur hotaa hai
————————————————————–

बस एक तुमको ही खो देना बाकि था
इससे बुरा इस साल और क्या होना बाकी था

bas ek tumko hi kho denaa baaki thaa
esse buraa es saal aur kyaa honaa baaki thaa
—————————————————————

तुझे अपनाऊ तो मुझसे जमाना रूठ जाता है
और मोहब्बत पढ़ने लिखने में बहुत आसान है
पर उसे निभाने में पसीना छुट जाता है

tujhe apnaau to mujhse jamaanaa ruth jaataa hai
aur mohabbat padhne likhne men bahut aasaan hai
par use nibhaane men pasinaa chhut jaataa hai
—————————————————————

ज़ख्म पुराने हुए कोई तो नया ज़ख्म दे जाओ
चलो आओ फिर से फिर से वही इश्क़ ले आओ

jakhm puraane hua koi to nayaa jakhm de jaao
chalo aao phir se phir se vahi eshk le aao
————————————————————–

सुना है बहुत बारिश हुई है तुम्हारे शहर में
ज्यादा भीगना मत
अगर धूल गई सारी गलतफहमियां
तो बहुत याद आयेंगे हम !!

sunaa hai bahut baarish hui hai tumhaare shahar men
jyaadaa bhignaa mat
agar dhul gayi saari galataphahamiyaan
to bahut yaad aayenge ham

Today's Special Discounted Deals

You may also like...