Popular Shayri

Saahil Pe Pahunchne Se Inkaar Kise Hai Lekin,
Toofano Se Ladne Ka Maza Hi Kuchh Aur Hai,
Kahte Hai, Ki Kismat Khuda Likhta Hai Lekin,
Use Mita Ke Khud Gadhne Ka Maja Hi Kuchh Aur Hai.

साहिल पे पहुंचने से इनकार किसे है लेकिन,
तूफ़ानो से लड़ने का मज़ा ही कुछ और है,
कहते है, कि किस्मत खुदा लिखता है लेकिन,
उसे मिटा के खुद गढ़ने का मजा ही कुछ और है।

Today's Special Discounted Deals

You may also like...