Popular Shayri

ख़ुद अपनी मस्ती है जिस ने मचाई है हलचल
नशा शराब में होता तो नाचती बोतल
– आरिफ़ जलाली


मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया
– मजरूह सुल्तानपुरी

Today's Special Discounted Deals

You may also like...