Funny Shayari

वो फ़र्श की धूल पे पड़े
चंद पैरों के निशान

वो चाय के
दो सूखे कप

वो ख़ामोश
दाल के सूखे बर्तन

वो सूखी पड़ी
चाय की पत्ती से भरी
बेजान छन्नी.

इसका अर्थ है
कि..

आज
👩‍🍳कामवाली नहीं आई

हर समय गुलज़ार साहब ही नहीं आते!!

Today's Special Discounted Deals

You may also like...